बुधवार, 8 जनवरी 2014

Sandeep Panwar's journey in 2013 संदीप पवाँर की बीते वर्ष की गयी यात्राएँ

साल 2013 भी बीते अन्य वर्षों की तरह मेरे लिये बेहतरीन रहा। बीते कुछ वर्षों से जैसा मन करता है ठीक वैसे ही घूमने का मौका लगता रहा है। बीते साल के शुरुआत में ही गोवा की यात्रा की गयी थी। जिसके बाद तो यात्राओं की लाईन ही लग गयी। आज इस लेख में बीते साल में की गयी सिलसिलेवार यात्राओं के लिंक व उनके बारे में संक्षेप में बताया जा रहा है। नीचे सभी यात्राओं के सिर्फ़ पहले लेख का लिंक दिया जा रहा है। जैसे ही आप नीचे दी गयी किसी भी यात्रा के लिंक पर क्लिक करोगे तो उस यात्रा के अन्य लेखों का लिंक आपके सामने आ जायेगा।

Last photo of year 2013


वर्ष की यात्रा संख्या-01

बीते साल की पहली यात्रा अंगेजी नव वर्ष के उपलक्ष्य में गोवा कि की गयी थी। इस यात्रा में बिना आरक्षण कराये इतनी लम्बी यात्रा करना मजेदार अनुभव रहा। इस यात्रा में रेलवे ने लगभग 5000 किमी यात्रा करायी थी।
गोवा यात्रा के पहले लेख का लिंक नीचे दिया गया है। आप इस लिंक पर जाकर सम्पूर्ण यात्रा देख व पढ़ सकते है।


भाग 01- गोवा यात्रा/ journey.



वर्ष की यात्रा संख्या-02

गोवा के बाद विशाखापट्नम-श्री-शैल मल्लिकार्जुन-परली वैजनाथ-नान्देड़ गुरुदवारा-बोम्बे के मुख्य दर्शनीय स्थल व माथेरान ट्राय ट्रेन की यात्रा की गयी थी। दिल्ली से विजाग व विजाग से श्री शैल बस से व वहाँ से बस में हैदराबाद आना पड़ा था। हैदराबाद से ट्रेन में बैठकर नान्देड़ व यहाँ से बोम्बे माथेरान व बोम्बे के दो दिन भ्रमण के बाद दिल्ली की यात्रा रेलवे से तय की गयी थी जिसमें लगभग 6000 किमी यात्रा की गयी थी।
विशाखापटनम- यात्रा के पहले लेख का लिंक नीचे दिया गया है। आप इस लिंक पर जाकर सम्पूर्ण यात्रा देख व पढ़ सकते है।

01. दिल्ली से नागपुर-विजयवाड़ा होकर विशाखापट्टनम तक की रेल यात्रा।


27. सिद्धी विनायक मन्दिर व हाजी अली की कब्र/दरगाह



वर्ष की यात्रा संख्या-03

इसी साल आगरा का ताज महल व लाल किला-मथुरा कृष्ण जन्म भूमि देखने के साथ वृन्दावन यात्रा सपरिवार की गयी थी। यह इस साल की सबसे छोटी यात्रा थी जिसमें कुल 500 किमी की यात्रा भी पूरी नहीं हो पायी थी।
आगरा-मथुरा-वृन्दावन यात्रा के पहले लेख का लिंक नीचे दिया गया है। आप इस लिंक पर जाकर सम्पूर्ण यात्रा देख व पढ़ सकते है।

01आगरा का ताज महल उर्फ़ तेजो महालय़



वर्ष की यात्रा संख्या-04

बीते साल पहली रोमांचक बाइक यात्रा साच पास पार करने की थी। इसमें हमारे साथी की बाइक बर्फ़ीले पानी में बह गयी थी। जिसे बाद में एक ट्रक में लादकर मनाली लाना पड़ा। इस यात्रा में रोहान्ड़ा के कमरु नाग की ट्रेकिंग भी की गयी थी। इस बाइक यात्रा में बाइक ने 1500 किमी यात्रा करायी थी इसके साथ बाइकों ने हमारे साथ ट्रक में 250 किमी यात्रा की थी।
इस साच पास की बाइक  यात्रा के पहले लेख का लिंक नीचे दिया गया है। आप इस लिंक पर जाकर सम्पूर्ण यात्रा देख व पढ़ सकते है।

01यात्रा की तैयारी व प्रस्थान (दिल्ली-अम्बाला-लुधियाना-जालंधर)



वर्ष की यात्रा संख्या-05

बीते साल की तीसरी लम्बी यात्रा उज्जैन महाकाल मन्दिर के महाशिवरात्रि पर दर्शन कर अमरकंटक का भेड़ाघाट देखते हुए उड़ीसा की राजधानी भुवनेश्वर के लिंगराज मन्दिर के साथ चिल्का झील, कोणार्क का सूर्य मन्दिर व पुरी का चार धाम रथ यात्रा वाला मन्दिर भी देखा गया था। इस यात्रा में रेलवे यात्रा ही 5000 किमी से ज्यादा हो गयी थी।
उज्जैन  यात्रा के पहले लेख का लिंक नीचे दिया गया है। आप इस लिंक पर जाकर सम्पूर्ण यात्रा देख व पढ़ सकते है।

01दिल्ली से उज्जैन तक ट्रेन यात्रा व यात्रा की तैयारी 
12- जबलपुर(मदन महल) से भेड़ाघाट/धुआँधार जल प्रपात तक 
24- भुवनेश्वर का विशालकाय-भीमकाय हर-हरि का लिंगराज मन्दिर



वर्ष की यात्रा संख्या-06

चूंकि हम भारत की राजधानी दिल्ली में निवास करते है तो साल में एक दो बार इस शहर के दर्शनीय स्थलों का भ्रमण कर लिया जाता है। इस साल लाल किला, कमल मन्दिर (लोटस टेम्पल) व इन्डिया गेट की यात्रा लोकल बस व मैट्रों से की गयी थी। इस एक दिनी यात्रा में मुश्किल से 150 किमी की यात्रा हो पायी थी।

नीचे दिल्ली  यात्रा के पहले लेख का लिंक नीचे दिया गया है। आप इस लिंक पर जाकर सम्पूर्ण यात्रा देख व पढ़ सकते है।





वर्ष की यात्रा संख्या-07

बीते साल की सबसे यादगार ट्रेकिंग किन्नर कैलाश महाशिला तक पहुँचने की रही। समुन्द्र तल से करीब बीस हजार फ़ुट की ऊँचाई तक जाने में काफ़ी कुछ सीखने को मिला। इस यात्रा में वापसी में शिमला का जाखू मन्दिर व शिमला की ट्राय ट्रेन की सवारी एक बार फ़िर करने का मौका हाथ लग गया था। इस यात्रा में शिमला की ट्राय ट्रेन से 96 किमी की दूरी तय करने के अलावा बस से आने-जाने में कुल 1200 किमी दूरी तय की गयी थी।
किन्नर कैलाश यात्रा के पहले लेख का लिंक नीचे दिया गया है। आप इस लिंक पर जाकर सम्पूर्ण यात्रा देख व पढ़ सकते है।




वर्ष की यात्रा संख्या-08

बीते साल अगस्त माह में धर्मशाला के पास स्थित करेरी झील जाने का कार्यक्रम पर जोरदार बारिश ने पानी फ़ेर दिया था जिससे कांगड़ा का किला भागसू नाग व मैक्लोड़गंज देखकर घर वापिस हो गये थे। इस यात्रा में कुल 1300 किमी दूरी बस से तय की गयी थी।

करेरी-कांगड़ा-धर्मशाला यात्रा के पहले लेख का लिंक नीचे दिया गया है। आप इस लिंक पर जाकर सम्पूर्ण यात्रा देख व पढ़ सकते है।




वर्ष की यात्रा संख्या-09


बीते साल की सबसे यादगार व रोमांचक बाइक यात्रा किन्नौर जिले से आरम्भ होकर लाहुल स्पीति के कुन्जुम दर्रे को पार कर रोहतांग दर्रे से होती हुई वाया मनाली-कुल्लू होते हुए दिल्ली तक पहुँची थी। इस यात्रा में करीब 1600 किमी की यात्रा तय की गयी थी।
किन्नौर व लाहौल-स्पीति की बाइक यात्रा के पहले लेख का लिंक नीचे दिया गया है। आप इस लिंक पर जाकर सम्पूर्ण यात्रा देख व पढ़ सकते है।

01- दिल्ली से चन्ड़ीगढ़ होकर शिमला तक 



इस साल के अंतिम सप्ताह में कश्मीर जाने की तैयारी थी लेकिन हवाई अड़्ड़े से ही वापिस आना पड़ा। वापिस आते समय दिल्ली में चाणक्यपुरी स्थित राष्ट्रीय रेल संग्रहालय देखने पहुँच गये। नीचे इस यात्रा के पहले लेख का लिंक दिया गया है।

Let's go to Kashmir by air आओ हवाई मार्ग से कश्मीर चले

श्रीनगर सपरिवार यात्रा के लेख के लिंक नीचे दिये गये है।



4 टिप्‍पणियां:

  1. आप ऐसे ही घूमते रहें और हम भावी पर्यटकों को लाभान्वित करते रहें

    उत्तर देंहटाएं
  2. 2013 मे हमे भी आपके माध्यम से नई नई जगह देखने को मिली आशा है इस साल भी यही क्रम जारी रहेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  3. गजब जाट देवता!! फुल मजे ले रहे हो !

    उत्तर देंहटाएं
  4. मजेदार यात्राये --इसी साल हम मिले थे --

    उत्तर देंहटाएं

इस ब्लॉग के आने वाले सभी या किसी खास लेख में आप कुछ बाते जुडवाना चाहते है तो अवश्य बताये,

शालीन शब्दों में लिखी आपकी बात पर अमल किया जायेगा।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...